Popular Posts

Saturday, 19 November 2011

POLITITIA KA DRAGON (Revolutionary Hindi novel)

पॉलिटीशिया का ड्रैगन
POLITITIA KA DRAGON
(The Dragon of Polititia)


-- A revolutionary Hindi novel --


English Synopsis
(Scroll down for Hindi Synopsis - हिंदी में कथा-सारांश पढ़ने के लिए नीचे स्क्रॉल करें) 


The entire story takes place in an “imaginary” island - POLITITIA - situated in a vast ocean with a mountain to the opposite side. This island is characterized by a morally declining life of most of its people who just pass time in idle gossips, lawlessness, hypocrisy, disorder and a very lewd attitude towards women. The island truly had a glorious past. However, the present scenario was just the opposite. Involved in daily idleness, use of tobacco, opium, drug and similar addictions, they look at women as a mere object of sex. The police, the politicians, the divines, the officers and even the intellectuals, in their own ‘subtle’ and sophisticated ways, are all sunk in the deplorable depth of moral corruption and sexual appetite. And yet, they have a deep sense of pride in their country and its past glory.

In such a sexually and morally perverted country, there lived a young man, Crusado, an orphan from childhood, who was depressed to see the condition of his small island, but had no means to fight against the odds. One night when the entire island was fast asleep, an ‘alien aircraft’ (so to say) landed on Mount Dondalla and Rado, the god of wrath, brought a horrible Dragon in the same aircraft and dropping him off on Mount Dondalla to carry out his mission, he rushed back.

One night a mighty storm swept away many lives in the Island as a part of Nature’s wrath and the horrible Dragon came out of his sleep, giving his first terrifying glimpse to the people. The next night the Dragon appeared before Crusado. The Dragon succeeded in befriending the afraid young man by telling him that he was sent by the Super Mind (the Dragon’s reference to God) to change the fate of Polititia, and since Crusado was a good soul, the Super Mind had chosen him as His instrument for this change. But for this, Crusado had to pass through a painful process inside him. Though highly scared of this pain and suffering, he loved his country and wanted its emancipation. So he agreed. However, the Dragon also promised him a ‘sweet’ prize on behalf of the Super Mind.

Another parallel stream of the story begins from France where Mr. Jacques Dupont, a Professor of Philosophy, is delivering his lecture at a post-graduation session. During his lecture, he refers to Polititia as a country of many philosophical ideas and a rich spiritual heritage. Among his students is Vanya Leyland, an extremely beautiful widow whose lover husband, Anatole, died in a shipwreck 18 years ago.

Now enchanted by Prof. Dupont’s impressions of Polititia, her spiritually athirst heart yearns to travel to this island. Professor Dupont gives her a Research Project and she comes to the island with a great picture in her mind. But as soon as she arrives at Old Chilly airport of Polititia, with her daughter (Beatrice), all her great images shatter down. She and her daughter were subjected to an attempt of rape by two taxi drivers but a deputy Minister of Polititia was passing with his officers and police bands and they were rescued -- only to fall victims of the Minister, his son and police officers.

Then again the Dragon appeared before Crusado and changed himself into a human form. The Dragon and Crusado do something to expose the crimes that are going to happen with the two French tourists. It is a whole sequence of tortures and exploitations of these women by the hands of the Minister and his son and even responsible officers …. And the revenge of the Dragon!

While all this was happening, one fine evening, Crusado had a different feeling. It was then when Atoosa, a beautiful fairy, appeared before him in the form of the “Sweet prize of the Super Mind” as referred to by the Dragon.

The sufferings force the French tourists (mother & daughter) to go back to their country but Crusado’s fiancée – Atoosa - tells them that it will be too cowardice to go like this, leaving the rapists unpunished. So they all unite to punish the culprits. The beautiful fairy fiancée also told Crusado that fighting with these corrupt people in this Dragon-style is not sufficient. The whole system needs to be changed. She asked him to fight for the post of President in the upcoming election. With her one encouragement, she completely changed Crusado’s fate, and proved to be the woman who is always behind the success of a man.

When these dialogues were on, again the Dragon appeared before Crusado and told him that “I am a very tiny Dragon created by the Super Mind but the actual Dragons are so powerful that they can uproot the mightiest powers on earth”. So who were these REAL DRAGONS?

The Dragon and Crusado had a video reel which could expose the Minister (Pestor Monto). He was afraid to know that Crusado enjoyed such a great trust of people. So … there are several sequences of what the Minister does to save his face and eliminate his “enemies”. For this, he even takes help of his spiritual godfather, Dhongar Baasha, who asks him to “divert people’s attention” from the rape case of the French ladies and cause communal and racial hatred. Ultimately, the Dragon and Crusado expose him. People run to kill the Minister but the Dragon stops them and encourages them to revenge by defeating him in the election.

Completely run off and witless, the Minister calls his criminal accomplices and opens his treasure to win votes of people by money or by muscle. But now people do what Crusado and Dragon wanted. When money failed, the ‘muscle’ was left. On the vote day, the Minister and his criminals visited several polling booths to intimidate people. The last polling booth was for women and there …. in a dramatic sequence … all women turn into Dragons and pounce at the Minister and his criminal fellows. And now all were Dragons … all chasing the sinister minister. The election result was announced. Crusado won the election and was declared the President. While pledging himself for serving the best interests of Polititia, he asks people to swear three things to give them ultimate freedom from corrupt Pestor Montos. WHAT ARE THESE THREE OATHS????

When all this was happening, there was a foreigner beggar who was living in Polititia since long and nobody knew his whereabouts. He seemed mad and did not even speak. As all people had thronged to the festive scenario where Crusado was swearing in as the President, he was also there standing in the queue of beggars and was now walking along. WHO WAS THIS EXOTIC BEGGAR …. A GUITARIST OF LOVE!! How did he come there? Does the smell of love fade when time passes by?

There was also a madman in that island named Hottpeter. Long ago, his forefathers had a small ‘kingdom’ and a rich life but now those days were gone. This madman mentally lived in that past of glory, but his present was so bad that even for a little wine, he had to flatter around people. People teased him, children made fun. He is an interesting character with lots of funny stories about his elephant.

……. And now the Dragon had to return when his mission was done. By this time he had fallen in love with the people of island. DID HE GO? WHAT HAPPENED TO HIM? The story ends with blended feelings of tragedy and comedy and leaves the audience well-suggested that even though the story has ended … it has NOT ENDED. The Dragon’s traits will continue till he has revenged the FIVE ANTI-DECENCY, ANTI-HUMAN AND CORRUPT GROUPS.

[POLITITIA KA DRAGON is destined to evolve into further sequences or 'serials' in the near future).


पॉलिटीशिया का ड्रैगन (हिंदी उपन्यास)
कथा-सारांश

यह पूरी कहानी पॉलिटीशिया नामक काल्पनिक द्वीप पर घटित होती है जो एक समुद्र के पास स्थित एक बहुत ही छोटा और स्वतंत्र देश है और जिसकी दूसरी ओर डौंडाला नामक एक पर्वत है। इस द्वीप के अधिकांश लोग नैतिक अध:पतन के जीते-जागते प्रमाण हैं जिनका समय फालतू की गप्पबाजी, अपराध, पाखंड, अव्यवस्था और महिलाओं के प्रति लम्पटपना दर्शाने में ही बीतता है। एक समय था जब बड़ा भव्य था यह द्वीप, मगर वर्तमान परिदृश्य तो बिल्कुल विपरीत है। रोज के निकम्मेपन में डूबे, तम्बाकू, अफीम, ड्रग और नशे की दुनिया में निमग्न इन लोगों के लिए औरत सिर्फ सेक्स की वस्तु है। यहां की पुलिस, यहां के राजनेता, धर्मगुरु व अधिकारी लोग, और यहां तक कि स्वयं पर ’बुद्धिजीवी’ का ठप्पा लगाने वाले लोग भी अपने-अपने ’परिष्कृत’ तरीके से इसी नैतिक अवमूल्यन और सेक्स की अतृप्त भूख की गर्त में गिरे हुए हैं। फिर भी, तुर्रा यह कि अपने देश और इसकी तथाकथित ’अतीत-गरिमा’ पर बड़ा फख्र है उन्हें। ऐसे नैतिक पतन वाले देश में एक युवक रहता है क्रूसेडो जो बचपन में अनाथ हो गया था, जो इस छोट-से द्वीप की दुर्दशा से खिन्न है लेकिन जिसके पास इस कुव्यवस्था से लड़ने का कोई औजार नहीं है।

एक रात जब यह सारा द्वीप गहरी नींद में सो रहा था, किसी अज्ञात देश से एक विमान माउंट डौंडाला पर आकर उतरता है और क्रोध का देवता - रैडो उस विमान में एक ड्रैगन को लेकर आता है और उसे अपना मिशन पूरा करने के लिए डौंडाला पर्वत पर छोड़कर वापस चला जाता है।

एक रात प्रकृति का कोप एक जबर्दस्त आंधी के रूप में प्रकट होता है और वह भयावह ड्रैगन अपनी नींद से जागता है। पहली बार वह पॉलिटीशिया के लोगों को अपनी झलक दिखाता है। अगली रात वही ड्रैगन क्रूसेडो के सामने आता है और यह कहकर उसे अपना मित्र बना लेता है कि ’सुपरमाइंड’ (ईश्वर) ने उसे पॉलिटीशिया की तकदीर बदलने के लिए यहां भेजा है, और चूंकि क्रूसेडो एक अच्छा इन्सान है इसलिए ’सुपरमाइंड’ ने उसे इस परिवर्तन के एक साधन के रूप में चुना है। लेकिन इसके लिए क्रूसेडो को अपने भीतर एक दर्द की प्रक्रिया से गुजरना होता है। हालांकि क्रूसेडो के मन में इस दर्द से डर जरूर है लेकिन उसे अपने देश से प्यार है और इसलिए वह यह दर्द झेलने को तैयार हो जाता है। दूसरी ओर, ड्रैगन उसे ’सुपरमाइंड’ की ओर से एक ’मधुर उपहार’ का आश्वासन भी देता है।

इस कहानी के साथ ही एक समानांतर कथा फ्रांस देश से शुरू होती है जहां मि. जैक्विस ड्यूपौंट दर्शनशास्त्र के एक प्रोफेसर हैं और पोस्ट-ग्रैज्युएट छात्रों के सामने अपना लेक्चर दे रहे हैं। अपने इस व्याख्यान के दौरान प्रोफेसर ड्यूपौंट पॉलिटीशिया देश का उल्लेख करते हैं जो उनकी दृष्टि में दार्शनिक विचारों और समृद्ध आध्यात्मिक विरासत वाला देश है। उनके छात्रों में से एक है वान्या लीलैंड, एक खूबसूरत युवा विधवा, जिसका पति अनातोले 18 साल पहले एक जहाज दुर्घटना में मारा गया था। पॉलिटीशिया के बारे में प्रोफेसर ड्यूपौंट के विचारों से प्रभावित वान्या आध्यात्मिक तृष्णा से भर जाती है और पॉलिटीशिया द्वीप की यात्रा के लिए लालायित हो उठती है। लेकिन अपनी बेटी बीट्रिश के साथ पॉलिटीशिया के ओल्ड चिली एयरपोर्ट पर उतरते ही उसके मन में समाई पॉलिटीशिया की भव्य छवि धराशायी होने लगती है। वह और उसकी बेटी दो टैक्सी ड्राइवरों की वासना की शिकार होने से बचती हैं। उन्हें बचाते हैं पॉलिटीशिया के एक उपमंत्री और उनके अधिकारी ताकि वे दोनों उनकी वासना के शिकार बन सकें।

एक रात ड्रैगन फिर क्रूसेडो के सामने ’अवतरित’ होता है और स्वयं को मनुष्य के रूप में बदल लेता है। ड्रैगन और क्रूसेडो मिलकर उन अपराधों पर से पर्दा उठाते है जिनका शिकार इन दो फ्रांसीसी पर्यटकों को होना पड़ता है। बाकी कहानी मंत्री (पेस्टर मौंटो), उसके बेटे और अधिकारियों के हाथों इन दो महिलाओं की यातनाओं और शोषण के कहानी है और ड्रैगन के प्रतिशोध की!

जब यह सबकुछ हो रहा है तो उधर क्रूसेडो के मन में एक मीठी-सी हलचल भी उठ रही थी। यही वह दौर है जब एक खूबसूरत परी अतूसा मानवी रूप में उसके सामने प्रकट होती है और इस तरह क्रूसेडो को ’सुपरमाइंड’ द्वारा प्रतिज्ञापित ’मधुर उपहार’ मिलता है।

यातनाओं से ऊबकर फ्रांसीसी पर्यटक (मां-बेटी) फ्रांस लौटने के लिए बाध्य हो जाती हैं मगर अतूसा उनसे कहती है कि इस तरह जाना कायरता होगी और बलात्कारियों को दंड मिलना ही चाहिए। दुष्टों को सजा दिलाने के लिए सब एकजुट होते हैं। अतूसा क्रूसेडो से यह भी कहती है कि इस ड्रैगन स्टाइल में भ्रष्ट लोगों से लड़ने से काम नहीं चलेगा पूरी प्रणाली बदलनी होगी। वह क्रूसेडो को राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए मनाती है। वह क्रूसेडो को बिल्कुल बदल देती है और स्वयं को एक ऐसी नारी साबित करती है जो पुरुष की प्रेरणा हुआ करती है।

इन बातों के दौरान, ड्रैगन एकबार फिर क्रूसेडो के सामने प्रकट होता है और कहता है कि ’मैं तो सुपरमाइंड के हाथों रचा हुआ एक छोटा-सा ड्रैगन हूं, लेकिन असली ड्रैगन तो इतने शक्तिशाली होते हैं कि वे धरती की सबसे विशाल ताकत को भी मटियामेट कर सकते हैं।’ कौन हैं वे असली ड्रैगन??

ड्रैगन और क्रूसेडो के पास एक वीडियो रील है जिससे मंत्री पेस्टर मौंटो की काली करतूतों का पर्दाफाश हो सकता है। पेस्टर को इस बात का भी डर है कि लोगों के मन में क्रूसेडो के प्रति बहुत आदर भावना थी। तो ऐसी बहुत सी घटनाएं होती हैं जिन्हें वह भ्रष्ट मंत्री अपनी इज्जत बचाने और अपने दुश्मनों का सफाया करने के लिए अंजाम देता है। इस कार्य के लिए वह अपने आध्यात्मिक संरक्षक ढोंगर बाशा की भी मदद लेता है जो उसे यह सलाह देता है कि फ्रेंच औरतों के बलात्कार मामले से लोगों का ध्यान हटाने के लिए वह साम्प्रदायिक और जातीय घृणा फैलाए। अंतत:, ड्रैगन और क्रूसेडो मिलकर उसका पर्दाफाश कर देते हैं। लोग पेस्टर मौंटो की जान लेने पर आमादा हैं लेकिन ड्रैगन उन्हें रोकता है और कहता है कि वे उसे चुनाव में हराकर बदला लें।

बिल्कुल हताश और निरुपाय वह मंत्री अपराधी तत्वों की शरण में जाता है और धन या बाहुबल से चुनाव जीतने का हथकंडा अपनाता है। लेकिन अब लोग वही करते हैं जो क्रूसेडो और ड्रैगन चाहते हैं। जब धन-बल हार गया तो बाहु-बल आजमाया जाता है। वोट के दिन, लोगों को डराने-धमकाने के लिए मंत्री और उसके अपराधी तत्व अनेक चुनाव बूथों पर जाते हैं। अन्तिम पॉलिंग बूथ महिलाओं के लिए है .... घटना की एक निर्णायक और नाटकीय परिणति में ... सभी महिलाएं ड्रैगन में बदल जाती हैं और मंत्री और उसके गुर्गों पर झपट पड़ती हैं। सब ड्रैगन बन जाते हैं और उस पापी मंत्री के पीछे पड़ जाते हैं। चुनाव के परिणाम आते हैं। क्रूसेडो चुनाव जीत जाता है और राष्ट्रपति बनता है। पॉलिटीशिया के कल्याण के लिए शपथ लेते हुए, वह लोगों को भी तीन कसमें खाने को कहता हैं। क्या हैं ये तीन कसमें??

घटनाओं के समस्त ताने-बाने के बीच, एक विदेशी भिखमंगा भी है जो बहुत दिनों से पॉलिटीशिया में रहता आ रहा है और कोई उसके बारे में कुछ नहीं जानता। वह पागल दिखता है और कुछ नहीं बोलता। जब क्रूसेडो राष्ट्रपति के रूप में शपथ ले रहा है और लोगों की भीड़ उमड़ आई है तो वह विदेशी भी भिखमंगों की जमात में खड़ा है और अब अपनी गिटार बजाते हुए कुछ गा रहा है। कौन है यह विदेशी भिखमंगा ... अपनी गिटार पर प्यार की धुन छेड़ने वाला? क्या समय बीतने के साथ प्यार की खुशबू भी खो जाती है?

उस द्वीप पर एक और पगला है हॉटपीटर। बहुत पहले ... उसके बाप-दादाओं की एक छोटी-सी रियासत थी, बड़े सुख भरे थे वे दिन, मगर अब कहां! मानसिक रूप से वह पगला उसी गौरवमय अतीत में जिया करता है लेकिन उसका वर्तमान इतना दुखद है कि जरा-सी शराब के लिए उसे लोगों के तलवे चाटने पड़ते हैं। लोग उसे चिढ़ाते हैं, बच्चे मसखरी करते हैं। वह भी कहानी का एक रोचक चरित्र है जिसके पास अपने ’हाथी’ के बारे में एक-से-एक मजेदार किस्से हैं।

............. और अब ड्रैगन का मिशन पूरा हो चुका है। अबतक वह उस द्वीप के लोगों के प्यार में डूब चुका है। क्या वह उस द्वीप से चला जाता है? क्या अंजाम होता है उसका? कहानी दुख और सुख की एक मिली-जुली अनुभूति के साथ समाप्त होती है और लगता है कि कहानी खत्म हो भी गई और नहीं भी। ’पॉलिटीशिया का डैगन’ के अगले भागों में, ड्रैगन का कारनामा जारी रहेगा .... जबतक वह शिष्टता और सौजन्यता, मानवीयता और सदाचार के दुश्मन पांच भष्ट ग्रुपों से नहीं निबट लेता।

भविष्य में पॉलिटीशिया का ड्रैगन उपन्यास की और भी श्रृंखलाएं प्रकाशित की जाएंगी। 
 
पॉलिटीशिया का ड्रैगन .. एक उपन्यास जो आपके विचार-तंतुओं को हिलाकर रख देगा।

Polititia Ka Dragon .... a Hindi novel that will storm your thought nerves.

WANT TO GET THIS BOOK?

NOW INVITATION PRICE ONLY RS.70/-
(LIMITED TIME OFFER)


Read Electronic Version (PDF). Get a copy in your Inbox!  (There is no print version of this book presently available)
Pages: 162 (A4 Size)

To order, call/sms on +9179416500 (S.C. Mishra)and/or email at indumukhi.publications@gmail.com. Mention the name of the book and your contact address. We will take care of your request.

YOU CAN ALSO REQUEST THIS BOOK IN A CD

COPYRIGHT NOTICE:  Polititia Ka Dragon is a copyrighted novel. Nobody is allowed to copy, reproduce (in any media), distribute or translate this novel or any part thereof without written permission from the author. Downloading or receiving electronic version of this book is meant for one individual only (for single use) and you should not share this book with other unauthorized readers. Failing to comply with this requirement may be dealt under the copyright infringement law.  
कॉपीराइट सूचना:  पॉलिटीशिया का ड्रैगन की कॉपीराइट लेखकाधीन है। लेखक की लिखित अनुमति के बिना इस उपन्यास या इसके किसी अंश की प्रतिलिपि बनाने, पुन:प्रस्तुत करने (किसी भी माध्यम में), वितरित करने या इसका अनुवाद करने की अनुमति किसी को भी नहीं है। इस पुस्तक को डाउनलोड करना या इलेक्ट्रोनिक माध्यम से प्राप्त करना केवल एक व्यक्ति के उपयोग के संदर्भ में है। कृपया इस पुस्तक को अन्य अनधिकृत पाठकों के साथ साझा न करें। इस अनिवार्यता का पालन न करने पर कॉपीराइट उल्लंघन कानून के तहत कार्यवाही की जा सकती है।

OUR QUALITY POLICY:  If, after reading our books, you are not satisfied with the quality, simply write to us at indumukhi.publications@gmail.com and your 50% money will be refunded. NO QUESTION will be asked. 

ANY QUESTION IN MIND BEFORE ORDERING?
Call: 9179416500 (S.C. Mishra) or E-mail:  indumukhi.publications@gmail.com

POST YOUR COMMENTS. THEY ARE MOST WELCOME AND WILL HELP US IMPROVE.

No comments:

Post a Comment